Rohtas: स्कूलों में प्रवेशोत्सव की रही धूम, रैली निकालकर नामांकन लेने के लिए किया गया प्रेरित

नवप्रवेशित छात्र छात्राओं का माल्यार्पण व तिलक लगाकर किया गया स्वागत

Awareness rally in Rohtas
-जागरूकता रैली निकालते विद्यालय के छात्र-छात्रा

रोहतास पत्रिका/डेहरी:

प्रखंड के सरकारी स्कूलों में सोमवार को बड़े धूमधाम से प्रवेशोत्सव मनाया गया। नगर से लेकर ग्रामीण अंचलों तक के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में प्रभात फेरी, अभिभावक गोष्ठी के साथ साथ रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। सुबह से ही विद्यालयों में प्रवेशोत्सव को लेकर शिक्षकों से लेकर बच्चों तक में उत्साह दिखाई दिया। विद्यालयों के गेट से लेकर कक्षाओं तक को गुब्बारों, रंग-बिरंगी पन्नियों व रिबन और झालर आदि लगाकर सुंदर ढंग से सजाया गया था।

इसी क्रम में सुजानपुर संकुल आधीन मध्य विद्यालय मानिकपुर के प्रधानाध्यापक मोहम्मद नसीम एवं संकुल समन्वयक रवि कुमार रंजन, बुनियादी विद्यालय बस्तीपुर के प्रधानाध्यापक अनिल कुमार प्रसाद, प्राथमिक विद्यालय भैंसहा के प्रधानाध्यापक अजय कुमार सिंह, प्राथमिक विद्यालय पांडेपुर के राम सनेही राम, प्राथमिक विद्यालय कटार के राजश्री धनंजय पाठक, प्राथमिक विद्यालय नारायणपुर के वीरेंद्र कुमार सिंह, प्राथमिक विद्यालय सुजानपुर के विशाल कुमार सिंह, और उर्दू प्राथमिक विद्यालय बस्तीपुर के कामेश्वर प्रसाद के नेतृत्व में शिक्षकों, शिक्षा सेवकों एवं बच्चों द्वारा जागरुकता रैली निकाल कर सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों का प्रवेश कराने के लिए लोगों को प्रेरित किया गया।

नुक्कड़ नाटक और कविता से ग्रामीणों को किया जागरूक

इस दौरान छात्र-छात्राओं ने पापा सुन लो विनय हमारी, पढ़ने की है उम्र हमारी.., आधी रोटी खाएंगे स्कूल जरूर जाएंगे.., पढ़ेंगे पढ़ाएंगे उन्नत देश बनाएंगे.., एक भी बच्चा छूटेगा संकल्प हमारा टूटेगा.., घर-घर विद्या दीप जलाएं, लड़का-लड़की सभी पढ़ाएं, पर्वत-पर्वत घाटी-घाटी निरक्षर मांगे बस्ता पार्टी.. जैसे नारों के साथ-साथ कविता, नुक्कड़ नाटक व गीत आदि के माध्यम से ग्रामीणों को जागरूक करने का प्रयास किया।

Awareness rally in Rohtas
-सुन्दर ढंग से सजाया गया विद्यालय प्रांगण

वहीं प्राथमिक विद्यालय तारबंगला के प्रधानाध्यापक अमरनाथ पंडित के नेतृत्व में शिक्षक घनश्याम प्रसाद, मिशाल कुमार गोस्वामी और कौशल कुमार द्वारा नवप्रवेशित छात्र छात्राओं का माल्यार्पण व तिलक लगाकर स्वागत किया गया। तत्पश्चात गांव में जागरुकता रैली निकालकर सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों का नामांकन कराने के लिए गांव वासियों को प्रेरित किया गया। साथ ही अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष में अक्षर आंचल योजना अंतर्गत विद्यालय में अध्ययनरत 15 से 45 वर्ष आयु वर्ग की महिला सुशिक्षुओ को बुनियादी साक्षरता के प्रति जागरूक किया गया और 14 मार्च को आयोजित होने वाले बुनियादी महापरीक्षा से संबंधित आवश्यक जानकारी दी गई।

आपको बताते चलें कि बिहार में कोरोना महामारी के बाद एक मार्च से पहली से पांचवीं तक के स्कूल खुल चुके हैं। इसलिए अब यह जरूरी है कि नामांकित छात्रों के साथ-साथ सभी अनामांकित और स्कूल से बाहर रहने वाले छात्र स्कूल पहुंच सकें। इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए इस साल वर्ग एक से आठ और नौवीं कक्षा के अनामांकित बच्चों के नामांकन के लिए 8 मार्च से 20 मार्च के बीच ‘प्रवेशोत्सव-विशेष नामांकन अभियान’ चलाया जाएगा जिसका शुभारंभ आज किया गया। अभियान का लक्ष्य है कि राज्य में ऐसा कोई भी बच्चा न हो, जो स्कूल से बाहर रह जाए। इस अभियान में शिक्षा विभाग के अलावा, ग्रामीण विकास विभाग और समाज कल्याण विभाग को भी लगाया गया है।