रोहतास: कोरोना काल में भी अपने कर्तव्यों का बखूबी निर्वाहन कर रहे स्वास्थकर्मी

Sadar Hospital Sasaram
- सदर अस्पताल में कार्यरत लैब टेक्नीशियन मुन्ना कुमार
रोहतास पत्रिका/सासाराम:
राज्य में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर सभी जगहों में देखा जा रहा है। रोहतास जिले में भी कोरोना संक्रमण ने पूरी तरह से अपना पाँव पसार रखा है। ऐसे में जिला अस्पताल स्थित सभी विभागों में कार्यरत डॉक्टर या स्वास्थ्य कर्मी बारी बारी संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं।
बावजूद इसके बाकी बचे स्वास्थ्य कर्मी इस भयावह स्थिति में भी अपने कर्तव्यों को पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ निर्वाह करते हुए देखे जा सकते हैं। रोहतास जिला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल के टीबी विभाग में लैब टेक्नीशियन के रूप में कार्यरत मुन्ना कुमार सिंह उन्हीं में से एक हैं जो कोरोना संक्रमण के बढ़ते रफ्तार के बीच विभाग द्वारा दिए गए कार्यों को बखूबी अंजाम दे रहे हैं। 
संक्रमण का ख्याल रखते हुए कर रहे है कार्य
लैब टेक्नीशियन मुन्ना कुमार सिंह बताते हैं “देश में वर्ष 2025 तक टीबी उन्मूलन का लक्ष्य रखा गया है और इसे हासिल करने हेतु अपनी छोटी सी सहभागिता सुनिश्चित करने में संतोष की अनुभूति होती है। सदर अस्पताल में अधिकांश डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी के साथ-साथ कोविड जांच करने वाले लोग भी संक्रमित हो चुके हैं ऐसे में लोगों का टीबी जांच भी एक चुनौती बना हुआ है, क्योंकि उसमें भी संक्रमण का खतरा बना रहता है।
लोगों की टीबी जांच करना भी जरूरी है तो ऐसे में खुद को कोरोना संक्रमण से बचाते हुए टीबी जांच के लिए आए सैंपल को पूरी सावधानी के साथ जांच के लिए भेजा जा रहा है। हम लोगो को जो भी काम मिलता है उसे अच्छी तरह से करते है और आये लोगों के चेहरे पर झलकती ख़ुशी दिन भर के मेहनत का पुरस्कार प्रतीत होता है”।
गाइडलाइन का पालन कर किया जा रहा है जांच
मुन्ना सिंह ने बताया कि वह खुद कोरोना संक्रमण के चपेट में आ चुके हैं और खतरे को समझते हुए टीबी की जांच करते समय कोविड गाइडलाइन का पालन किया जाता है। मुंह को मास्क से पूरी तरह से ढक कर, हाथ में ग्लब्स लगाकर एवं सोशल डिस्टेंस रखते हुए लोगों की टीबी जांच की जाती है। इसके अलावा जब सैंपल आता है तो सैंपल जांच के दौरान भी हम लोग पूरी तरह से एहतियात बरतते हैं।
उन्होंने बताया कि कभी-कभी हम लोगों को कोरोना जांच के लिए भी भेजा जाता है उसे भी हम लोग पूरी ईमानदारी और अपना कर्तव्य समझकर करते हैं। उन्होंने बताया कि पिछली बार कोरोना जांच करते समय टीबी विभाग के कुछ कर्मचारी भी संक्रमण की चपेट में आ गए थे। वर्तमान में भी कोरोना संक्रमण के बीच हम लोगों का टीबी जांच अभियान भी पूरी तरह से जारी है और उसे रोका नहीं गया है।
परिवार को लेकर बना रहता है डर
लैब टेक्नीशियन मुन्ना सिंह ने बताया कि हम लोग पूरी सावधानी के साथ जांच करते हैं। फिर भी संक्रमण को ले मन में एक भय बना रहता है। खासकर परिवार को लेकर ज्यादा बना रहता है क्योंकि घर पर जाते हैं तो घर में बच्चे और बूढ़े बुजुर्ग भी मौजूद होते हैं इसलिए घर में प्रवेश करते हैं तो बच्चों एवं अन्य सदस्यों से बचते हुए पहले सारे कपड़े को किनारे रखकर अच्छी तरह से नहाते हैं। फिर भी ज्यादा कोशिश रहता है कि घर के सदस्यों से थोड़ा दूरी बना कर रहे ताकि वे लोग संक्रमण की चपेट में आ जाए।