किसान आंदोलन: 18 को देशभर में रेल रोको अभियान का संयुक्त ऐलान

12 फरवरी से राजस्थान के सभी रोड टोल प्लाजा को करवाएंगे टोल मुक्त।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डॉक्टर दर्शन पाल

रोहतास पत्रिका/नई दिल्ली:

संसद में एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी किसानों से आंदोलन को समाप्त करने की अपील किया, वहीं दूसरी ओर किसान अपने आंदोलन का दायरा बढ़ाने के चक्कर में है। एक तरफ किसानों ने पहले राजस्थान के सभी रोड को एक दिन के लिए टोल प्लाजा को टोल मुक्त कराने की बात कही, फिर 18 को देशभर में रेल रोको अभियान चलाने की बात कही है।

किसानों के संगठन संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डॉक्टर दर्शन पाल की ओर से जारी प्रेस नोट में अगले एक हफ्ते के कार्यक्रम का विस्तार से ब्यौरा दिया गया। जिसके अनुसार अंदोलन को और तेज करने का फैसला लिया गया है। इसके लिए अगले कुछ दिनों की योजना का खुलासा भी किया है। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से आए इस विस्तार ब्यौरा के अनुसार कहा गया है कि 12 फरवरी से राजस्थान के भी सभी रोड टोल प्लाजा को टोल मुक्त करवाए जाएंगे, इसके बाद 14 फरवरी को पुलवामा हमले में शहीद जवानों के बलिदान को याद करते हुए देश भर में कैंडल मार्च और मशाल जुलूस जैसे अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

इसके बाद के कार्यक्रमों की सूची के अनुसार, 16 फरवरी को किसानों के मसीहा सर छोटूराम की जयंती दिवस के मौके पर देशभर में किसान अपनी एकजुटता दिखाएंगे। इसके बाद 18 फरवरी के दिन देशभर में रेल रोको अभियान दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक आयोजित किया जाएगा। आपको बता दें कि बुधवर को पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में अपने संबोधन में कहा कि हिंदुस्तान इतना बड़ा देश है, कोई भी निर्णय शत प्रतिशत सब को स्वीकार्य हो ऐसा संभव ही नहीं हो सकता। ये देश विविधताओं से भरी है और किसी जगह ज़्यादा तो किसी जगह कम लाभ करता होगा।

आगे अपने भाषण में उन्होंने कहा कि मैं किसान आंदोलन को पवित्र मानता हूं, लेकिन जब आंदोलनजीवी पवित्र आंदोलन को अपने लाभ के लिए निकलते हैं तो आंदोलन की पवित्रता नष्ट करते हैं। आंदोलनजीवी देश को गुमराह कर रहे हैं, और देश को ऐसे आंदोलनजीवीयों की पहचान करना जरूरी है। अपने भाषण के अंत में उन्होंने अपील की थी कि सरकार और किसान टेबल पर बैठकर इसका समाधान निकालें।