रोहतास: जिले में लगातार बढ़ रही कोरोना संक्रमितों की संख्या, एक्टिव केस हुए 35

बढ़ती संक्रमितों की संख्या को देखते हुए जांच प्रक्रिया तेज़ कर दी गयी है: सिविल सर्जन

Sasaram covid patient
-प्रतीकात्मक तस्वीर-

• संक्रमण को रोकने के लिए नए संक्रमित मरीजों की खंगाली जा रही है ट्रैवल हिस्ट्री
• जिले के तीन प्रखंडों में बनाए गए 9 माइक्रो कंटेनमेंट जोन
• शिवसागर में सर्वाधिक 6, सासाराम में 2 व तिलौथू में 1 माइक्रो कंटेन्मेंट जोन

रोहतास पत्रिका/सासाराम:

जिले में कोरोना संक्रमण की रफ्तार अब थोड़ी बढ़ती नज़र आ रही है। जिले में 1 महीना के भीतर नए संक्रमित मरीजों की संख्या 2 से 29 हो गई थी। गुरुवार तक ताजा आंकड़ों के अनुसार फिर से 7 नए अन्य मरीज मिलने से अब ये संख्या बढ़कर 35 हो गई है। इस तरह से जिले में कुल मरीजों की संख्या 6997 हो गई है। जबकि 6912 मरीज ठीक भी हो चुके हैं। वहीं जिले में कोरोना से 47 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। अभी एक्टिव मरीजों की संख्या 35 है जिसमें 33 संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेशन में रखा गया है जबकि 2 संक्रमित मरीजों का इलाज सासाराम सदर अस्पताल में जारी है।

जिले में मिले नए केस की अभी पुष्टि नहीं हो पायी है कि ये लोग कैसे संक्रमित हुए। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग संक्रमित लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री खंगालने में लगा हुआ है। इसकी जानकारी देते हुए सिविल सर्जन डॉ सुधीर कुमार ने बताया कि जिला स्वास्थ्य विभाग पुरजोर कोशिश में है कि संक्रमण के चेन को तोड़ा जाए| इसके लिए सबसे पहले संक्रमित मरीजों की पूरी जानकारी ली जा रही है। साथ ही साथ इस बात की भी जानकारी ली जा रही है कि संक्रमित होने से पूर्व वह व्यक्ति किस किस के संपर्क में आया। सिविल सर्जन ने बताया कोरोना संक्रमण की दूसरी रफ्तार को देखते हुए जिला में जांच प्रक्रिया तेज़ कर दी गयी है।

सभी पीएससी को जांच में तेजी लाने के लिए एक निश्चित लक्ष्य (टारगेट) दिया गया है तो संक्रमण से बचाव को लेकर जिले में हो रहे टीकाकरण में भी तेजी लाया जा रहा है| ताकि अधिक से अधिक लोग टीका लेकर लाभान्वित हो। सिविल सर्जन ने टीका ले चुके लोगों से यह अनुरोध किया कि टीका लेने के बाद खुद को सुरक्षित न समझें और टीका लेने के बाद मास्क का इस्तेमाल करना न छोड़ें। बल्कि टीका लेने के बाद भी सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

9 जगहों पर बनाएं गए माइक्रो कंटेनमेंट जोन

जिले में एक बार फिर बढ़ते कोरोना संक्रमण की वजह से तीन प्रखण्ड के 9 जगहों पर माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। जिसमें शिवसागर प्रखण्ड में सबसे अधिक 6, सासाराम में 2, एवं तिलौथू प्रखण्ड में 1 माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। माइक्रो कंटेनमेंट जोन में रह रहे संक्रमित लोगों को सख्त दिशा निर्देश दिए गए हैं कि वे लोग अपने घरों से बाहर न निकलें और मास्क का प्रयोग करते रहें। साथ ही साथ कंटेनमेंट जोन के आसपास रहने वाले लोगों की भी कोरोना जांच की जा रही है। इसके अलावा उनसे जुड़े लोगों की भी जांच की जा रही है।

गाइडलाइन को पालन कराने पर दिया जा रहा है जोर

कोरोना संक्रमण का फैलाव कम हो इसको लेकर कोविड गाइडलाइन को पालन कराने पर जोर दिया जा रहा है। इसको लेकर लोगों को मास्क का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। साथ ही साथ सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर भी लोगों को कहा जा रहा है। ताकि संक्रमण फैलने की संभावना को कम किया जा सके।

इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के सात साथ धर्मगुरुओं एवं जनप्रतिनिधियों का भी सहारा लिया जा रहा और उनसे अनुरोध किया जा रहा है कि वे लोग अपने अपने क्षेत्रों में लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें। साथ ही टीका ले चुके लोगों से भी अनुरोध किया जा रहा है कि वे लोग भी अन्य लोगों को टीका लेने एवं गाइडलाइन का पालन करने के लिए जागरूक करें।