रोहतास: रोक के बावजुद हो रही 14 चक्का ट्रकों से ओवरलोडेड बालू की ढ़ुलाई, प्रशासन मौन?

रविवार को भी दर्जनों 14 चक्का बालू लदे ट्रक रोहतास- बक्सर बॉर्डर पर खड़ा है.

illegal mining of sand in rohtas
- रोहतास-बक्सर बॉर्डर पर खड़े बालू लदे 14 चक्का ट्रक

रोहतास पत्रिका/सासाराम:

बिहार में परिवहन विभाग द्वारा कुछ महीने पहले 14 चक्का ट्रक से बालू और गिट्टी ढुलाई पर रोक लगा दिया गया था, लेकिन रोहतास जिले में स्थित सोन नदी से बड़े पैमाने पर अवैध तरीके से खनन कर 14 चक्का ट्रक में ओवर लोडिंग में बालू की निकासी की जा रही है।

रोहतास जिले के कोचस प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत सासाराम-चौसा पथ पर बने बहसी पुल पर 14 चक्का ट्रकों की लम्बी कतारे देखने को मिल रही है। दिन हो या रात बालू लदे ट्रक सड़क के किनारे खड़े रहते है जिससे जाम की समस्या उत्पन होती है। 

rohtas truck
– बिक्रमगंज के रास्ते धड़ल्ले से पार होता 14 चक्का ट्रक

रात के अँधेरे में बॉर्डर पार करते है ट्रक 

जिले में स्थित सोन नदी से बालू खनन कर अधिकतर ट्रक बिक्रमगंज-दिनारा के रास्ते कोचस होते हुए उत्तर प्रदेश बॉर्डर में प्रवेश करते है। बॉर्डर पार जाने वाले ट्रकों में अधिकांश प्रतिबंधित 14 चक्का ओवरलोडेड बालू लदा ट्रक शामिल हैं। सभी ट्रकों को रात में अवैध रूप से लाइनरों के मदद लेकर बॉर्डर पार करवाया जाता है।

आपको बतां दें कि अब रात के अँधेरे में खेले जाने वाला खेल सूरज के रौशनी में भी आसानी से खेला जा रहा है और प्रशासनिक अधिकारी अपने कार्यालय में हाथ पर हाथ धरे बैठे हुए हैं। 

लाखों रुपए राजस्व का हर रोज लगता है चूना

सरकार द्वारा कुछ महीने पहले से ही 14 चक्का ट्रकों पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है। प्रतिबंध के बावजूद भी ओवरलोड 14 चक्का बालू लदे ट्रकों को रोहतास जिले से यूपी ले जाने का सिलसिला जारी है। अधिकारियों के लापरवाही के कारण रात के अंधेरे में अवैध खनन कर ओवरलोडेड बालू से लदे ट्रकों को यूपी ले जाने के कारण लाखों रुपए राजस्व का सरकार को चूना लग रहा है।

यहीं नहीं इन बालू लदे ट्रकों से पानी का रिसाव होने के कारण कंपनी के द्वारा बनाई गई मुख्य सड़क भी धीरे-धीरे खराब होती जा रही है। सड़क खराब और जाम होने के कारण स्थानीय ग्रामीणों को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। 

दिन के उजालों में सड़क किनारे खड़े रहते हैं दर्जनों ट्रक

दिनारा थाना क्षेत्र के भगतगंज, भगीरथा, गारा, नरवर के ग्रामीण जनता सड़क पर खड़े बालू लदे ट्रक से परेशान हैं। इन ट्रकों के चालकों द्वारा मुख्य सड़क पर खड़ा कर दिया जाता हैं और खड़ा करने के बाद लाइनर के द्वारा यूपी में जाने के लिए लाइन क्लियर होने की सुचना का इंतजार किया जाता है, जिसके बाद आसानी से यह ट्रक यूपी में प्रवेश कर जाते है।

कोचस बाजार के स्थानीय लोगों ने बताया कि स्थानीय थाना एवं जिले के वरीय पदाधिकारी, जिला परिवहन विभाग, खनन विभाग के मिलीभगत से प्रतिदिन 14 चक्का एवं ओवरलोडिंग ट्रक इसी रास्ते से जाते हैं लेकिन कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति होता है।